Sunday, 26 May 2019, 4:38 PM

धर्म-संस्कृति

कबीर माला प्रकरण: थाई नागरिकों की पुलिस अभिरक्षा शुरू

Updated on 17 December, 2013, 12:11
लखनऊ। वाराणसी के कबीर मठ से संत कबीरदास की छह सौ वर्ष पुरानी माला चोरी के प्रकरण में थाईलैंड के तीन नागरिकों पट्टा रावत, फ्रा केराटीपट और फ्रूएक बूनटेटानन की पुलिस अभिरक्षा गुरुवार पूर्वाह्न नौ बजे से शुरू हो गई। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (नवम) अभिषेक श्रीवास्तव की अदालत ने... आगे पढ़े

निर्मल गंगा के लिए बढ़े कदम

Updated on 16 December, 2013, 21:57
वाराणसी। गंगा निर्मलीकरण के लिए परमार्थ निकेतन ने अब और आगे कदम बढ़ा दिए हैं। स्वामी चिदानंद सरस्वती के 60 वें जन्मदिन पर गंगा एक्शन परिवार का गठन किया गया है। इसके तहत छह योजनाएं तैयार की गई हैं। इस बाबत केंद्र सरकार समेत उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश सरकार को भी... आगे पढ़े

यहां संरक्षित हैं 300 साल के पंचांग

Updated on 16 December, 2013, 21:55
इलाहाबाद । 700 ईसवी से लेकर मौजूदा साल तक का पंचांग देखना हो या लीडर अखबार और माया, धर्मयुग जैसी पत्रिकाओं की प्रतियों का अवलोकन तो भारती भवन पुस्तकालय में जाएं। 125 साल पुरानी इमारत में ये सब मौजूद हैं। नक्काशीदार किताबों की आलमारी में रखी तमाम ऐतिहासिक किताबों के... आगे पढ़े

अंक प्रकृति के संदेशावाहक होते

Updated on 16 December, 2013, 21:38
अंक प्रकृति के संदेशावाहक होते हैं, जरूरत है अंकों में छिपे संदेश को समझने की। दिनांक 11-12-13 में अंकों का विलक्षण संयोग था। इनमें 11 का अंक ब्रहृमा, 12 का अंक विष्णु तथा 13 का अंक महेश का प्रतिनिधित्व कर रहा है। सृष्टि के सृजन-पालन-संहार करने वाले तीनों देवों की... आगे पढ़े

विराट सत्ता की झांकी

Updated on 16 December, 2013, 13:21
ईश्वर चेतना निराकार है. साकार तो उसका कलेवर भर दिखता है. ईश्वर का दृश्य स्वरूप यह विराट ब्रह्माण्ड है. अर्जुन, यशोदा, कौशल्या आदि का मन ईश्वर दर्शन के लिए व्याकुल हुआ तो उन्हें इसी रूप में दिव्य दर्शन कराये गये. इसके लिए दिव्य नेत्र दिये गये. कारण, स्थूल दृष्टि से विराट... आगे पढ़े

ध्यान-तन्मयता का नाम समाधि

Updated on 16 December, 2013, 13:17
ध्यान के द्वारा परिवर्तन तभी संभव है जब ध्यान में जाने के लिए गहरी आस्था हो. आस्था का निर्माण हुए बिना ध्यान में जाने की क्षमता अर्जित नहीं हो सकती. कुछ व्यक्तियों में नैसर्गिक आस्था होती है और कुछ व्यक्तियों की आस्था का निर्माण करना पड़ता है. आस्था पर संकल्प का... आगे पढ़े

जीवन का आधार है गीता

Updated on 15 December, 2013, 20:40
 वृंदावन : गंगा, यमुना, गीता हमारे जीवन का आधार हैं, अगर आस्था से हम इसे आत्मसात करें तो सभी समस्याओं का समाधान हो सकता है। यह बात पूर्व राज्यमंत्री रविकांत गर्ग ने गीता जयंती के मौके पर सेवाकुंज मार्ग स्थित भागवत निलय में आयोजित समारोह में कही। निम्बार्क मठ के सेवायत... आगे पढ़े

कैलाश मानसरोवर : एक साहसिक तीर्थयात्रा

Updated on 15 December, 2013, 12:40
सभी तीर्थ करने के बाद कैलाश मानसरोवर का तीर्थ करना हिंदू धर्म के अलावा जैन, बौद्ध और अन्य धर्म के श्रद्धालुओं में बहुत लोकप्रिय है। यह बहुत ही साहसिक तीर्थयात्रा है जिसकी शुरुआत सितंबर में की जाती है। उत्तराखंड तिब्बत होते हुए लगभग दो महीने में यह यात्रा पूरी होती... आगे पढ़े

कोल्हापुर में नित्य जप ध्यान करते हैं भगवान विष्णु के यह अवतार

Updated on 15 December, 2013, 11:07
ब्रह्माण्ड पुराण की कथा के अनुसार देवी अनुसूया के पतिव्रत से प्रसन्न होकर त्रिदेव यानी ब्रह्मा, विष्णु एवं महेश ने उनके घर पुत्र रूप में जन्म लेने का वरदान दिया। इस वरदान के फलस्वरूप ब्रह्मा चन्द्रमा रूप में, शिव जी ऋषि दुर्वासा के रूप में तथा भगवान विष्णु दत्तात्रेय के... आगे पढ़े

मरने के चार साल बाद वह लौट आया बीवी बच्चों के पास

Updated on 14 December, 2013, 15:34
दिल्ली इस बात को सभी धर्मों में कहा गया है कि शरीर और आत्म दो अलग चीज है। आत्मा अमर है और यह एक शरीर को छोड़कर दूसरे शरीर में प्रवेश कर जाता है। गरूर पुराण कहता है कि शरीर का त्याग करते समय आत्मा जीवन भर के कर्मों और ज्ञान... आगे पढ़े

शाश्वत प्रेम अंतहीन है

Updated on 14 December, 2013, 15:13
प्रेम कितना ही होता जाए, अधूरा ही बना रहता है. वह परमात्मा जैसा है. कितना ही विकसित होता जाए, पूर्ण से पूर्णतर होता जाता है, फिर भी विकास जारी है. जैसे प्रेम का अधूरापन ही उसकी शाश्वतता है. ध्यान रखना कि जो चीज पूरी हो जाती है, वह मर जाती है.... आगे पढ़े

ज्ञान से होती है संत की पहचान

Updated on 14 December, 2013, 12:29
मुंगेर/जमालपुर (मुंगेर)। संत की पहचान उनके वेष से नहीं बल्कि उनके ज्ञान से होती है। उक्त उद्गार आशुतोष महाराज की शिष्या साध्वी श्यामा भारती ने सफियाबाद बाजार समिति स्थित राम कथा ज्ञान यज्ञ के पांचवें दिन शुक्रवार को सीता हरण प्रसंग के बीच कही। श्यामा ने कहा कि रामायण की... आगे पढ़े

बड़े से बड़ा काम बन जाता है दो अक्षर के इन नामों से

Updated on 13 December, 2013, 21:26
कृष्ण भी जिनका जपते नाम दो अक्षर का राधा नाम भगवाती राधा भगवान श्री कृष्ण की प्रेयसी और पराशक्ति हैं। इसलिए श्री कृष्ण के नाम से पहले राधा का नाम लिया जाता है। भगवान श्री कृष्ण का कहना है जहां भी राधा का नाम लिया जाता है वहां मैं पहुंच जाता... आगे पढ़े

जलियांवाला बाग के मिट्टी-पानी से जुड़ेंगे सरदार पटेल

Updated on 12 December, 2013, 22:08
अहमदाबाद । अखंड भारत के शिल्पी लौहपुरुष सरदार पटेल की याद में नर्मदा नदी पर बनने वाली प्रतिमा 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' की नींव में जलियांवाला बाग और स्वर्ण मंदिर का मिट्टी-पानी भी लगेगा। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता, राज्य मंत्रिमंडल के... आगे पढ़े

राधाकृष्ण की मूर्ति खोजने के लिए एकजुट हुए गांव वाले

Updated on 12 December, 2013, 13:07
बरसाना। संकेत वन के प्राचीन राधारमण मंदिर से चोरी की गईं अष्टधातु व पाषाण की राधाकृष्ण की मूर्तियों को लेकर मंदिर परिसर में पंचायत हुई। पंचायत में ग्रामीणों ने मूर्ति चोरों का गांव से कोई न कोई संबंध होना स्वीकार किया। गांव वालों का मानना है कि बीच गांव से... आगे पढ़े

मखमली रजाई ओढ़ने लगे प्रभु

Updated on 12 December, 2013, 13:05
गोवर्धन। श्रद्धा के अनमोल मोतियों से सजी आस्था की माला भक्त की प्रेम डोरी से बनी होती है। प्रभु को भाव का भूखा बताया जाता है, इसीलिए प्रभु की सेवा उनके भक्त निराले ढंग से करते रहते हैं। सर्दी के बढ़ते कदमों को देखकर गिरिराज भक्तों को प्रभु के स्वास्थ्य... आगे पढ़े

कुसुम सरोवर की खूबसूरती पर अफसरों का बट्टा

Updated on 12 December, 2013, 13:02
गोवर्धन। ब्रज के पर्यटन को निखारती बेमिसाल इमारत शाम ढलते ही भुतहा नजर आती है। यह वही इमारत है जिसे पर्यटन का सिरमौर बनाया गया। सरकार ने डॉक्यूमेंटरी में इसे शामिल किया। इसकी खूबसूरती संवारने के लिए खजाना खोला और दस करोड़ रुपए दिए गए। मगर अफसरों की लापरवाही ने... आगे पढ़े

कबीरदास के बाद विवेकानंद की थाती पर भी थी चोरों की नजर

Updated on 11 December, 2013, 10:39
वाराणसी। संत कबीरदास की छह सौ वर्ष पुरानी माला चुराने वाले थाईलैंड के चोरों की नजर स्वामी विवेकानंद व उनके गुरु परमहंस स्वामी से जुड़ी दुर्लभ वस्तुओं पर भी थी। कबीरदास की माला हाथ आने के बाद थाईलैंड के चोरों को लगा कि अब रामकृष्ण सेवाश्रम गए तो पकड़े जाने... आगे पढ़े

भगवान के लिबास के सहारे भक्ति की राह

Updated on 11 December, 2013, 10:37
अयोध्या। आस्था और विश्वास की डोर के सहारे सभी अपने तरीके से भगवान तक पहुंचना चाहते हैं, लेकिन रामनगरी के भगवत प्रसाद श्रीवास्तव उर्फ पहाड़ी ने ईश्वर के प्रति श्रद्धा व्यक्त करने का अनूठा रास्ता खोजा है। वे अपने आराध्य देवों की पोशाकें सिलते हैं। हालांकि उनकी यह काबलियत पुश्तैनी... आगे पढ़े

लक्ष्य पूरा कर रहा रामायण मेला: नृत्यगोपाल

Updated on 11 December, 2013, 10:34
अयोध्या। 32 वे रामायण मेले के तीसरे सत्र का उद्घाटन मेला समिति के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने दीप प्रज्जवलित कर किया। उन्होंने कहा कि मेला अपने लक्ष्य को पूरा कर रहा है। सीताराम विवाहोत्सव के अवसर पर होने वाले इस आयोजन में हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं का समूह... आगे पढ़े

राधे-राधे के दम पर कद को दी मात

Updated on 11 December, 2013, 10:32
वृंदावन। कद को देख हर मुस्कराहट सुकून नहीं बल्कि जी जलाती थी। कोई छोटू कहता तो कोई बौना और कोई कुछ..। हिम्मत दिखाई किस्मत चमकी और साढ़े तीन फुट के राजाराम की राधे-राधे हो गई। अपने देश में नहीं बल्कि सात समंदर पार साढ़े तीन फुट के राजाराम और उनसे... आगे पढ़े

धान की बालियों से सजा अन्नपूर्णा दरबार

Updated on 11 December, 2013, 10:27
वाराणसी। भगवती अन्नपूर्णा का दरबार रविवार को धान की बालियों से सजा। धन धान्य की कामना से भक्तों ने श्रृंगार झांकी के दर्शन किए। कोई 17 तो किसी ने 101 फेरी लगाई। इसके साथ ही व्रती महिलाओं नें 17 दिनी या 17 वर्षीय व्रत का उद्धापन भी किया। सुबह से... आगे पढ़े

11-12-13 के अनूठे संयोग को यादगार बनाने की हो रही तैयारी

Updated on 10 December, 2013, 22:23
गाजियाबाद । अनूठा संयोग बुधवार को 11-12-13 से कहीं अछूते न रह जाएं इसलिए लोग उसे किसी न किसी तरह अपने लिए यादगार बनाने की तैयारी में जुटे हैं, लेकिन वहीं ज्योतिष इस अनूठे संयोग को इस दिन पैदा होने वाली संतान के लिए स्वास्थ्य की दृष्टि से थोड़ा कमजोर... आगे पढ़े

उस सेठ ने दान मांगने आई भगिनी निवेदिता को थप्पर क्यों मारा?

Updated on 9 December, 2013, 22:15
भगिनी निवेदिता ने एक दिन देखा कि स्वामी विवेकानंद कह रहे थे कि बेसहारा अनाथ बच्चे साक्षात भगवान के समान हैं। यह सुनकर भगिनी निवेदिता ने संकल्प ले लिया कि वह बंगाल में अनाथ बच्चों के कल्याण के लिए एक आश्रम की स्थापना करेंगी। इसके लिए वह कोलकाता के धनाढ्यों... आगे पढ़े

ध्यान से बदलता है व्यक्ति

Updated on 9 December, 2013, 14:40
आग्रह जितना भी होता है, परोक्षज्ञानी में ही होता है. प्रत्यक्षज्ञानी सत्य के प्रति समर्पित होता है, सत्य उसे प्राप्त हो जाता है. ऐसी स्थिति में आग्रह को टिकने का स्थान ही नहीं मिलता. अनाग्रही व्यक्ति में परिवर्तन करना नहीं पड़ता, स्वयं घटित होता है. ध्यान के द्वारा तनाव का ताना-बाना... आगे पढ़े

मां विंध्यवासिनी: आस्था का चमत्कारी धाम

Updated on 9 December, 2013, 12:43
मां विंध्यवासिनी एक ऐसी जागृत शक्तिपीठ है जिसका अस्तित्व सृष्टि आरंभ होने से पूर्व और प्रलय के बाद भी रहेगा. यहां देवी के 3 रूपों का सौभाग्य भक्तों को प्राप्त होता है. पुराणों में विंध्य क्षेत्र का महत्व तपोभूमि के रूप में वर्णित है. मां विंध्यवासिनी देवी मंदिर श्रद्धालुओं की आस्था... आगे पढ़े

बहुत जरूरी है वक्त पर सही फैसला लेना

Updated on 7 December, 2013, 12:15
कभी-कभी दो अच्छे इंसान भी साथ रहकर एक दूसरे की जिंदगी को दुखद बना देते हैं। वे अलग-अलग तो अच्छे होते हैं, पर आपस में घुल-मिल नहीं पाते। मेरी दोस्त रोहिणी के साथ ऐसा ही हुआ। उसकी अरेंज मैरिज को कुछ ही दिन हुए थे कि उसे लगा उसने गलत... आगे पढ़े

यहां आज भी आते हैं भगवान

Updated on 7 December, 2013, 11:52
वृंदावन। निधि शब्द का अर्थ सूरत क्रीड़ा से है। ग्रंथों के अनुसार केलिविलास के कारण निशांतकाल में निधिवन के केलिकुंज में युगल (राधाकृष्ण) का शयन विलास होता है। आज भी मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण एवं श्रीराधा आज भी अर्धरात्रि के बाद यहां रास रचाते हैं। फिर परिसर में स्थित... आगे पढ़े

रिखिया आश्रम में बह रही भक्ति की अविरल धारा

Updated on 6 December, 2013, 12:54
दूसरों की सेवा से ही मिलता परम सुख मोहनपुर। योगगुरु ब्रह्मलीन स्वामी सत्यानंद की तपोभूमि रिखियापीठ में मंगलवार से भक्ति व अध्यात्म की गंगा प्रवाहित होने लगी है। इस गंगा में डुबकी लगाने के लिए न केवल भारत के कोने-कोने से बल्कि 50 देशों के सैकड़ों लोग पहुंचे हुए हैं। तीन से... आगे पढ़े

कबीरमठ प्रकरण: कोलकाता में पुलिस के हत्थे चढ़े दो लामा

Updated on 6 December, 2013, 12:50
वाराणसी। भक्तिकाल के महान संत कबीरदास की छह सौ वर्ष पुरानी लाल चंदन की माला के चोरी प्रकरण में बुधवार रात पुलिस ने कोलकाता स्थित एक तारांकित होटल से दो लामाओं को हिरासत में ले लिया। उनकी पहचान पुष्ट कराने के लिए कबीर मठ से तीन लोगों को कोलकाता भी रवाना... आगे पढ़े

Gyan Vani Bhopal